Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.

Audios
Live Tabs - Standard Edition - License Revoked!
Contact Us


Sadhana Tips for Aatma Sakshatkar
aatmasakshatkar_ttip3

4/27/2013 11:08:00 AM
aatmasakshatkar_ttip4

4/28/2013 9:38:00 AM
aatmasakshatkar_ttip2

4/27/2013 11:08:00 AM
aatmasakshatkar_ttip1

4/26/2013 1:08:00 PM

Articles List
चिदानंदरूपः शिवोऽहं शिवोऽहं...

  चिद्’ अर्थात् चैतन्य । ‘शिवोऽहम्’ अर्थात् कल्याणकारी आत्मस्वरूप मैं हूँ । दृढ़ भावना करो कि ‘मैं आत्मा हूँ... चैतन्यस्वरूप हूँ... आनंदस्वरूप हूँ.....
Read More..


सब दुःखों से सदा के लिए मुक्ति

  असंभव को संभव करने की बेवकूफी छोड़ देना चाहिये और जो संभव है उसको करने में लग जाना चाहिए । शरीर एवं संसार की वस्तुओं को सदा सँभाले रखना असंभव है अ...
Read More..


लक्ष्य सबका एक है...

जन्म का कारण है अज्ञान, वासना । संसार में सुख तो मिलता है क्षण भर का, लेकिन भविष्य अंधकारमय हो जाता है । जबकि भगवान के रास्ते चलने में शुरूआत में ...
Read More..


साधक सिद्ध कैसे बने ?

  साधारण से दिखनेवाले मनुष्य में इतनी शक्तियाँ छुपी हुई हैं कि वह हजारों जन्मों के कर्मबंधनों और पाप-तापों को काटकर अपने अजन्मा, अमर आत्मा में प्रत...
Read More..


परमात्मप्रेम में पाँच बातें

  परमात्मप्रेम बढ़ाने के लिये जीवन में निम्नलिखित पाँच बातें आ जायें ऐसा यत्न करना चाहिए : 1. भगवच्चरित्र का श्रवण करो । महापुरुषों के जीवन की गाथा...
Read More..


साधकों के लिये विशेष...

गुरु हमें गुरु-परंपरा से प्राप्त कई अनुभवों से सार-सार बातें बता रहे हैं । चाहे कैसी भी गंदी-पुरानी आदत होगी, त्रिबंध प्राणायाम से उसे आप उखाड़ फें...
Read More..


भगवान का अनुभव कैसे हो ?

  परमात्मा कैसा है ? आत्मा का स्वरूप क्या है ? कोई कहता है कि भगवान तो मोरमुकुटधारी हैं । कोई कहता है कि भगवान तो मर्यादापुरुषोत्तम हैं । कोई कहता ...
Read More..


आत्मज्ञान के प्रकाश से अँधेरी अविद्या को मिटाओ

  वसिष्ठजी महाराज कहते हैं : ‘‘ हे रामजी ! जिनको संसार में रहकर ही ईश्वर की प्राप्ति करनी हो, उन्हें चाहिए कि वे अपने समय के तीन भाग कर दें : आठ घं...
Read More..


Read Full Article
लक्ष्य सबका एक है...

लक्ष्य सबका एक है...

पूज्य बापूजी की परम हितकारी अमृतवाणी

जन्म का कारण है अज्ञान, वासना । संसार में सुख तो मिलता है क्षण भर का, लेकिन भविष्य अंधकारमय हो जाता है । जबकि भगवान के रास्ते चलने में शुरूआत में कष्ट तो होता है, संयम रखना पड़ता है, सादगी से रहना पड़ता है, ध्यान-भजन में चित्त लगाना पड़ता है, लेकिन बाद में अनंत ब्रह्माण्डनायक, परब्रह्म परमात्मा के साथ अपनी जो सदा एकता थी, उसका अनुभव हो जाता है ।

संसार का सुख भोगने के लिए पहले तो परिश्रम करो, बाद में स्वास्थ्य अनुकूल हो और वस्तु अनुकूल हो तो सुख होगा लेकिन क्रियाजन्य सुख में पराधीनता, शक्तिहीनता और जड़ता है । इससे बढ़िया सुख है धर्मजन्य सुख । धर्म करने में तो कष्ट सहना पड़ता है लेकिन उसका सुख परलोक तक मदद करता है । अतल, वितल, तलातल, रसातल, पाताल, भूलोक, भुवर्लोक, स्वर्लोक, जनलोक, तपलोक आदि के सुख प्राप्त होते हैं ।

योग में भी यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान, समाधि... इस प्रकार परिश्रम करना पड़ता है जिससे चित्त की शांतिरूपी फल यहीं मिलता है और परलोक में भी सद्गति होती है लेकिन परिश्रम तो करना ही पड़ता है ।

ज्ञानमार्ग में भी श्रवण-मनन-निदिध्यासन का सुखद परिश्रम तो करना ही पड़ता है । एक भगवद्भक्ति ही है कि जिसमें परिश्रम की जगह पर भगवान से प्रेम है और भगवान से प्रेम होता है भगवान को अपना मानने से । भगवान में प्रीति होने से भक्तिरस शुरू होता है । भक्ति करने में भी रस और भोगने में भी रस । इसमें कभी कमी नहीं होती वरन् यह नित्य नवीन एवं बढ़ता रहता है ।

भजनस्य किं लक्षणम् ? भजनस्य लक्षणं रसनम् । जिससे अंतरात्मा का रस उत्पन्न हो, उसका नाम है भजन । भक्त्याः किं लक्षणम् ? भागो ही भक्तिः । उपनिषदों में यह विचार आया है । भक्ति का लक्षण क्या है ? जो भाग कर दे, विभाग कर दे कि यह नित्य है, यह अनित्य है... यह अंतरंग है, यह बहिरंग है... यह (शरीर) छूटनेवाला है, यह (आत्मा) सदा रहनेवाला है... वह भक्ति है । शरीर व संसार नश्वर है, जीवात्मा-परमात्मा शाश्वत् है ।

जो सदा रहता है, उससे प्रीति कर लें, बस । ऐसा न सोचें कि दुनिया कब हुई ? कैसे हुई ? वरन् दुनिया के सार में मन लगायें । दुनिया का सार है परमात्मा । उसी परमात्मा के विषय में सोचें, उसीके विषय में सुनें तो भगवत्प्रीति बढ़ने लगेगी । भगवत्संबंधी बातें सुनें, बार-बार उन्हीं का मनन करें ।
‘मुझमें काम है... मुझमें क्रोध है...’ इन विघ्नों से, दुर्गुणों से लड़ो मत और न ही अपने सद्गुणों का चिंतन करके अहंकार करो, वरन् मन को भगवान में लगाओ तो दुर्गुण की वासना और सद्गुण का अहंकार दोनों ढीले हो जायेंगे और अपना मन अपने परमेश्वर में लग जायेगा । यही तो जीवन की कमाई है !

संसारतापतप्तानां योगो परम औषधः ।

संसार के ताप में तपे हुए जीवों के लिये योग परम औषध है । योग तीन प्रकार का होता है : पहला है ज्ञानयोग । तीव्र विवेक हो, वैराग्य हो । ‘मैं देह नहीं... मन नहीं... इन्द्रियाँ नहीं... बुद्धि नहीं...’ ऐसा विचार करते-करते सबसे अलग निर्विचार अपने नारायणस्वरूप में टिक जायें । भले, पहले दस सेकण्ड तक ही टिकें, फिर बीस, पच्चीस, तीस सेकण्ड... ऐसा करते-करते तीन मिनट तक निर्विचार अपने नारायणस्वरूप में टिक जायें तो हो जायेगा कल्याण । यह एक दिन... दो दिन... एक महीने... दो महीने का काम नहीं है । इसके लिए तो दीर्घकाल तक दृढ़ अभ्यास चाहिए । चिरकाल की वासनाएँ एवं चिरकाल की चंचलता चिरकाल के अभ्यास से ही मिटेंगी ।

दूसरा है ध्यानयोग । देशबंधस्य चित्तस्य धारणा । एक देश में अपनी वृत्ति को बाँधना, एकाग्र करना... इसका नाम है धारणा । भगवान, स्वस्तिक, दीपक की लौ अथवा गुरु-गोविंद को देखते-देखते एकाग्र होते जायें । मन इधर-उधर जाये तो उसे पुनः एकाग्र करें । इसको ‘धारणा’ बोलते हैं । 12 निमेष तक मन एक जगह पर रहे तो धारणा बनने लगती है ।
आँख की पलकें एक निमेष में गिरती हैं ।
12 निमेष = 1 धारणा । ऐसी 12 धारणाएँ हो जायें तो ध्यान लगता है । ध्यानयोगी अपने आपका मार्गदर्शक बन जाता है । 12 ध्यान = 1 सविकल्प समाधि और 12 सविकल्प समाधि = निर्विकल्प नारायण में स्थिति ।

तीसरा है भक्तियोग । भगवान को अपना मानना एवं अपनेको भगवान का मानना । जो तिद्भावे सो भलिकार... परमात्मा की इच्छा में अपनी इच्छा मिला देना, पूर्ण रूप से उसीकी शरण ग्रहण करना... यही भक्तियोग है ।
जैसे बिल्ली अपने मुँह से चूहे को पकड़ती है, उसी मुँह से अपने बच्चों को पकड़कर ले जाती है । उसके मुँह में आकर उसका बच्चा तो सुरक्षित हो जाता है लेकिन चूहे की क्या दशा होती है ? ऐसे ही जो भगवान का हो जाता है, वह संसारमाया से पूर्णतया सुरक्षित हो जाता है । उसकी पूरी सँभाल भगवान स्वयं करते हैं । फिर उसके पास अपना कहने को कुछ नहीं बचता तो उसमें वासना टिक कैसे सकती है ?

अतः किसी भी योग का आश्रय लो... ज्ञानयोग, ध्यानयोग या भक्तियोग का, सबका उद्देश्य तो एक ही है : सब दुःखों से सदा के लिए निवृत्ति और परमानंद की प्राप्ति । ईश्वरप्रीत्यर्थ निष्काम भाव से किये गये कर्म कर्मयोग है । दुर्वासना ही जीव को चौरासी के चक्कर में भटकाती है एवं वासनानिवृत्ति से ही जीव चौरासी के चक्कर से छूटकर नित्य शुद्ध-बुद्ध चैतन्यस्वरूप, आनंदस्वरूप, सत्यस्वरूप परमात्मा में प्रतिष्ठित हो जाता है ।

 

 
 

View Details: 1358
print
rating
  Comments

There is no comment.

Realated Books

Hindi >>

Ishwar Ki Aur

Read Online

Download PDF

English >>

Towards The God

 

Shighra Ishwar Prapti

Read Online

 

Download PDF

 

 

jeete-ji-mukti.jpg

Jeete Ji Mukti

Read Online

Download PDF

 

 

 

Alakh Ki Aur

Read Online

Download PDF

Ananya Yog

Read Online

Download PDF

atamgunjan.JPG

Aatma Gunjan

Read Online

Download PDF

 

 

 

Shree Brahm Ramayan

Read Online

Download PDF

atamyog.JPG

Aatma Yog

Read Online

Download PDF

Daivi Sampada

Read Online

Download PDF

atamgunjan.JPG

Gyani Ki Gat Gyani Jaane

Read Online

Download PDF
 
Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji