Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.
स्टिंग के नाम पर आस्था से खिलवाड़
स्टिंग के नाम पर आस्था से खिलवाड़

स्टिंग के नाम पर आस्था से खिलवाड़

- कल्कि पीठाधीश्वर श्री प्रमोद कृष्णम् महाराज, अध्यक्ष, अखिल भारतीय संत समिति

दिनांक 10 d 11 सितम्बर 2010 को 'आज तक' टी.वी. चैनल पर दिखाये गये तथाकथित स्टिंग आपरेशन की वास्तविकता उजागर करते हुए 'ए टू जेड' टी.वी. चैनल पर दिये अपने इंटरव्यू में श्री प्रमोद कृष्णम्जी महाराज ने कहा ः

यह जो एक टी.वी. चैनल पर हिन्दू संतों का स्टिंग ऑपरेशन दिखाया गया, उसको देखने के बाद ऐसा लगता है कि यह तो स्टिंग नहीं है, यह क्रिएट किया (बनाया) गया है । स्टिंग तो वह होता है जिसमें कहीं गलत काम हो रहा हो और खुफिया तौर से उसे रिकॉर्ड कर लिया जाय । यह तो स्टिंग के नाम पर धोखा है । मीडिया को चाहिए कि जो घटना हो रही है उसको दिखाये लेकिन यह तो विकृत, द्वेषपूर्ण, बदइरादे से खबर बनायी जा रही है... आप ही शिकायतकर्ता हो गये, आप ही जाँच-अधिकारी हो गये, आप ही वकील हो गये, आप ही न्यायाधीश हो गये और आप ही ने सजा सुना दी !!!

पीछे जो घटनाएँ घटी हैं हिन्दुस्तान में, उनमें आरुषी मर्डर केस में हुआ यह कि उसके पिता का जैसे ही नाम आया, चैनल्स ने यह दिखाना शुरू कर दिया कि देखिये एक कलियुगी पिता का कु-करतब, कलियुगी पिता ने अपनी बेटी की हत्या की ! (परंतु बाद में ऐसा सिध्द नहीं हो पाया है, यह सभी जानते हैं।) अभी शाइनी आहूजा वाला केस देखिये । (चैनलों की वजह से) शाइनी आहूजा खलनायक, अपराधी सिध्द हो गया किंतु उस नौकरानी ने कह दिया है कि 'मैंने किसीके कहने पर ऐसा कहा था' तो अगर वह निर्दोष साबित हो गया तो आज तक उसकी जो बदनामी हुई है वह क्या कोई टी.वी. चैनल वापस दे देगा? आरुषी के माता-पिता को छोड़ो, पूरे देश में बच्चे डरने लगे थे अपने माता-पिता से । ऐसी पत्रकारिता से हमारा सामाजिक ढाँचा कमजोर हो रहा है । इसलिए मीडिया से मैं अनुरोध करना चाहूँगा कि वह अपने अधिकारों की सीमा में रहकर काम करे क्योंकि किसीको भी भारत के कानून को तोड़ने का अधिकार नहीं दिया गया है।

भारत के संतों के खिलाफ स्टिंग के नाम पर यह जो दिखाया जा रहा है, मुझे लगता है कि कहीं--कहीं इसके पीछे बहुत बड़ी साजिश है। 'अखिल भारतीय संत समिति' का अध्यक्ष होने के नाते मैं इस बात को बड़े स्पष्ट तरीके से कहना चाहता हूँ कि अगर इस तरह के षड्यंत्र किसी और धर्म के धर्मगुरु के साथ हो जायें तो इस देश में आग लग जायेगी, तमाम तूफान खड़ा हो जायेगा। हमारा धर्म बड़ा ही सहनशील है जो हमारे संतों पर अत्याचार-दुष्प्रचार होता है तो भी हम सहन कर लेते हैं । आखिर में सोचो, कौन है इसके पीछे ? हिन्दू संतों के ही खिलाफ स्टिंग के नाम पर साजिश क्यों हो रही है ? इस पर भी सोचो । जब तक एक पक्ष देखा है, दूसरा पक्ष देखा ही नहीं तो आपको किसने अधिकार दिया कि किसीको मुजरिम ठहरा दें ? किसीको हत्यारा कहते हैं, किसीको दोषी, किसीको ढोंगी, किसीको पाखंडी, किसीको दुराचारी कहते हैं तो मैं तो नहीं समझता कि यह उचित है। जहाँ तक आसारामजी बापू का सवाल है, सुधांशु महाराज का सवाल है और जिन लोगों के खिलाफ स्टिंग देखने को मिला है, उसमें कहीं भी ऐसा नहीं लग रहा है । मान लीजिये, किसी आश्रम, मंदिर, मस्जिद या गुरुद्वारे में कोई व्यक्ति जाता है और कहता है कि मैं पीड़ित हूँ, मुझे शरण दे दो तो कौन ऐसा धर्म है जिसका धर्मगुरु उसकी पीड़ा को दूर करने के लिए उसे शरण नहीं देगा ? यह तो स्वाभाविक है। अब यह अलग बात है कि आपने सरल स्वभाव संतों को ठगना शुरू कर दिया है कि आप एक नाटक करके एक व्यक्ति भेजते हैं, कभी उनको पैसे का लोभ देने का प्रयास करते हैं, कभी वैदिक विश्वविद्यालय खोलने की बात करते हैं तो गलत काम संत-महात्मा नहीं कर रहे हैं, गलत काम आप कर रहे हैं क्योंकि आप गलत काम करने के लिए उनको प्रेरित कर रहे हैं। मैं स्पष्ट रूप से कहना चाहता हूँ कि आप संतों को धोखा दे के उनको ठग रहे हैं तो ठगी, छल-फरेब का मुकदमा आप पर लागू होना चाहिए ।

जिनके लाखों अनुयायी हैं, हजारों अनुयायी हैं, जिनकी इस देश में प्रतिष्ठा है, सम्मान है उनको आप एक मिनट में बदनाम कर देते हैं कि देखिये इस संत का काला कारनामा ! लाखों लोगों की भावनाओं से आप खेल रहे हैं । धार्मिक भावनाओं और धार्मिक आस्थाओं पर कुठाराघात कर रहे हैं ।

भारत का संविधान यह अधिकार देता है कि हम किसी भी धर्म को मान सकते हैं, किसी भी धर्मगुरु को मान सकते हैं; यह अपनी व्यक्तिगत आस्था है । तो आपकी आस्था से खिलवाड़ किया जा रहा है, यह कतई उचित नहीं है । इस पर रोक लगनी चाहिए और यह फैसला होना चाहिए कि आपको खबर दिखाने का अधिकार है, खबर बनाने का नहीं ।

एंकर ः महाराजजी ! यह क्यों किया जा रहा है?

महाराज ः इसमें छुपाने की बात ही नहीं है । मुझे साफ लग रहा है यह सब पैसे का, टी.आर.पी. का खेल है । हजारों करोड़ रुपये टी.वी. चैनलों ने इसी धंधे में लगा रखे हैं, जो कि गलत बात है । पैसा कमाने के लिए आप किसीको बदनाम करते हैं । बीस-बीस, पचास-पचास साल की जिनकी तपस्या है, उनसे आप एक गॉसिप (गप्प) कर रहे हैं, छल-फरेब कर रहे हैं । फिर आप उसे दिखायेंगे, वह भी तोड़-मरोड़ के । अगर जनवरी में आप उसको रिकार्ड करते हैं तो जून में दिखाते हैं। पाँच-छः महीने उसको आप एडिट करते हैं, उसमें स्क्रिप्ट कराते हैं, फेब्रिकेट करते हैं (झूठी बातें गढ़ते हैं) । यह बहुत बड़ा अपराध है, गुनाह है ।

*

  Comments

news channels attention(vinashkale vipritbudhi)
Created by Rakesh kumar in 8/29/2012 6:04:21 AMnews walon apne aur apni dhearm ki grima ko samjho.Ishwar aur uske pyare santo se khilwad tumhe nestonabut kar dega. apne parivar apne bachoun ke sanskar aur unke bhavishy ki chinta kre.tumahar to kuch pata nahi gadhe me ja rahe ho ya khai me
dharm ka kuprasar karnewalo bhartiy sanskrati ko dhumil karne ki seshta karnevalo kya tumne hindusth
Created by RAMESH Parmar bangalore mool nivasi (Rajsthani)mukam post BITHUDA dist-jalore taluk AHORE in 7/21/2011 11:56:34 PMNew Comment
Hum dukhi kyon ho rahe hain.
Created by Ranbir Thakur in 10/30/2010 9:24:06 PMHamari aastha itni kamjor nahi hai ki kuch TV channel apni TRP ke liye Pujya Bapu Ji ke waare main dush prachar karein aur hum dukhi hone lagein. Itne kamjor na bano. Apni astha par kayam raho. In TV walon ki waato par pratikriya karna bhi inko aur prerit karne ke brawar hai. Kar sako to un sabhi channels ko aapne ghar main dekhna wand kar do. Na rahe baans na baje bansuri....Hai OM!!!
Bharatiya Sanskriti evam santo pe kichad uchhalnewale channel walope sakht se sakht karwai karni cha
Created by Haresh Mohanlal Joshi Bhuj-Kutch in 10/30/2010 7:59:04 AMNew Comment
New Comment
Created by janardan kumar maurya in 10/30/2010 4:45:50 AMsachchai chhup nahi sakati banawat ke wasulon se khusaboo aa nahi sakati kabhi kagaj ke foolo se.sab kuch samane aa raha hai ki kis tarah hamare santo ke uper kya ho raha hai?????????om hari om !!!!
New Comment
Created by Poonam in 10/24/2010 7:30:58 AMMaine Pujya Gurudev se diksha li hai aur diksha lene ke baad jo mera jeevan sambhla hai, usay na koi bayan kar sakta hai aur na hi koi samajh sakta hai, aaj main jis jagah pahuchi hu, apne ghar parivar ka naam roshan kar rahi hu aur jo mujhe scholarships mil rahi hain, wo sab gurudev ki hi karuna kripa hai. Mujhe to ye samajh mein nahi aata ki aajkal ke log do paise ke akhbaar ki khabar ko ya fir news channel mein dikhayi jaane wali bakwaas ko sach kaise maan lete hain? Kya kabhi aise logo ne ek baar Guruji ke satsang mein khud jakar waha ka nazara dekhne ki ya waha ke logo se baat karne ki koshish ki hai, shayad nahi ki, qk agar ki hoti to shayad aisi ghatiya aur behudgi wali baat na kehte. Khair, mere liye to mera anubhav saccha hai, na ki ye media walo ki bakwaas. Main khud ek media wali hu, aur maine media line isliye chuni ki jald se jald main shraddha aur vishwaas ke naam par santo ko badnaam karke apni TRP badhane wale gundo ko main asliyat se wakif kara saku, aur mujhe pura yakeen hai ki wo din bahut jald aayega jab meri mehnat aur lagan kuch aisa kar dikhayegi jo media aur andhe channel walo ke muh par tamacha sabit hogi. Mujhe bas usi pal ka intezaar hai. Ishwar kare wo ghadi jald aaye, jab main samaj se is kuriti ko ukhaad feku aur apne Gurudev ke sankalp ko pura karne mein apna purna sehyog du, aur mujhe bhi pura yakeen hai ki 2011 se apne desh ka bhagya badalna shuru ho jayega, aakhir Bapuji jo hain saath mein.......HARI OM !!
JALANKHORI
Created by Deepak Ganzeer in 10/23/2010 5:34:48 PMHamara bharat desh ek aisa desh hai jaha ke log kisiki unnati nahi dekh sakate ,agar koi unnati ki sedhiya chad raha hai toh use pair pakadkar niche karna logoki ki swabhavikta ban chuki hai.Hamare param pujya bapuji ko media walo ne ek bar nahi ,kai bar nishana banaya hai parantu jeet hamare bapuji ki hui hai.Ant me main yahi kahana chahunga ki aise news channalo ka bahishkar ho jo 'sting' ke naam par santo ki avahelna kare.
Deepak Ganzeer
(dip.in mech.eng.)2nd year

Saanch ko Aanch Nahin
Created by Chandra Prakash,State Bank in 10/20/2010 10:43:25 PMBichoo kitna hi dank(sting) mare sant apni dayaluta nahin Chhorta.Guruji ke charno me danvat pranaam.
humare bapuji to bhagwan hai ye nigure kya jane
Created by rahul in 10/20/2010 2:57:12 AMchand ki chandni koi chin nai sakta, suraj ki roshni ko koi katam nai kar sakta waise hi bapuji bhagwan hai hum yaha jante hai to koi humari bhaktior sradha ko puri duniya bhi ek ho jaye to mita nai sakte hariiiiiii om........
hamare pyare bapuji
Created by urvashi in 10/20/2010 2:38:50 AMchahe is duniya me log santo ki kitni bhi ninda kare par isase sach ko badla nahi ja sakta jab in logo ko apni galati ka ehsas honga tab bohot der ho chuki hongi.......bapuji bhagwan hai or is sacchayi ko koi nahi badal sakta......hari om om om om
Page 1 of 14First   Previous   [1]  2  3  4  5  6  7  8  9  10  Next   Last   

Your Name
Email
Website
Title
Comment
CAPTCHA image
Enter the code
  

 

Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji