Welcome to Ashram.org | Login | Register
एक MBBS डाॅक्टर का अनुभव जिनकी माँ को मौत के मुँह से निकाल लायी पूज्य Asaram Bapu Ji के प्रति अटूट आस्था और श्रद्धा....
एक MBBS डाॅक्टर का अनुभव जिनकी माँ को मौत के मुँह से निकाल लायी पूज्य Asaram Bapu Ji के प्रति अटूट आस्था और श्रद्धा....


21 Aug 14

 एक MBBS डाॅक्टर का अनुभव जिनकी माँ को मौत के मुँह से निकाल लायी पूज्य Asaram Bapu Ji के प्रति अटूट आस्था और श्रद्धा....


मैं डाक्टर होकर भी अपनी माँ के लिए कुछ ना कर सका पर बापूजी ने बचाया मेरी माँ को मौत के मुँह से....

मैं MBBS डाॅ बंकिम शाह सूरत का रहने वाला हूँ । मुझे डाक्टरी का भरपूर तजुर्बा है पर कहते हैं ना के ईश्वर की शक्ति के सामने डाक्टर्स की भी नहीं चलती । मैं आश्चर्य चकित हो गया जब मेरी माँ अचानक मौत के मुँह से बाहर आ गयी । मेरी माँ को पाईल्स की बिमारी हो गयी और भी भयानक बिमारियों से माँ पिडित थी बिस्तर से उठ नहीं सकती थी ।
पूज्य बापूजी से मेरी माँ ने बहुत पहले दीक्षा ली थी । इतनी बिमारी की हालत में माँ ने कहा मैं सूरत आश्रम में जाकर पूज्य बापूजी द्वारा शक्तिपात किये हुए वटवृक्ष की परिक्रमा करूँगी तो ठीक हो जाऊँगी । मैंने कहा क्या है ये सब एक पेड कि परिक्रमा करने से माँ ठीक हो जायेगी मेरी वर्षों की डाक्टरी की पढाई जो ना कर सकी पूरी ऐलोपैथिक दवाईयाँ जो ना कर सकी वो एक वटवृक्ष कर देगा । 

पर मैं गलत था, मेरी माँ तो जैसेजैसे परिक्रमा करती गयी वैसे वैसे माँ स्वस्थ और मजबूत होने लगी मैं माँ का रोज चैकप करता था मेरे साँईस ने मुझे ये स्वीकारने पर रोक लगाई थी पर मेरे मन बुद्धि इसे स्वीकार नहीं रहे थे पर ये सच था मेरी माँ मौत के मुँह से वापिस आ गयी । मेरी माँ की भक्ति और माँ की श्रद्धा जीत गयी और मैं हार गया । 

सच हम आजकल की पढाई करके संतों और अपने प्राचीन ऋषि मुनियों की परंपराओं का अनादर करते हैं । पर हम नहीं जानते वास्तव में इस दुनिया में बहुत से ऐसे रहस्य हैं जिन्हें विज्ञान के उपकरण नहीं खोज सकते नहीं देख सकते वास्तव में इसे तो महापुरुषों पर श्रद्द्धा रखने वाले भक्त या वो संत महापुरुष ही अनुभव करते हैं ।

धन्य हैं वो लोग जो इन महापुरुषों को पहचान पाते हैं ।

 

Contact Us | Legal Disclaimer | Copyright 2013 by Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved.
This site is best viewed with Microsoft Internet Explorer 5.5 or higher under screen resolution 1024 x 768