Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.
Search
Minimize
Health Links
Minimize
healthy_living

4/10/2012 8:58:00 PM
healthy_living-clock

4/27/2013 9:48:00 AM
Kishmish_healthyLiving

Importance Of Kishmish

More...
Tips_For_Pregnancy

6/15/2012 8:00:00 AM
HighBP&LowBP

6/15/2012 8:13:00 AM
Chyawanprash

 By using this divine rasayan Old Chyawan Rushi regained youth. It improves & maintains youth, memory, grasping power, skin glow, physical strength. Achyutaya Chyawanprash is useful in chronic debilitating diseases, T.B., chronic respiratory tract disorders, malnourished & thin built individuals. Useful in male & female infertility. The best health booster for daily use in all age group.


Directions of Use :  1 to 2 t.s.f. twice a day on empty stomach ( Dose depends upon age, weight & illness of the individuals) OR as directed by physician.
 Note :- Do not take milk 2 hr. before & 2 hr. after medicine.

Main Ingredients :  Emblica officinalis(amla), Boerhaavia Diffusa(punarnava)  and more than 56 divine medicine from himalaya

 

4/10/2012 8:07:00 PM
Aloe Vera Juice

Aloe-Vera juice

This works as a liver-tonic. Balances all the three doshas & improves apetite.Useful in liver dysfunction, jaundice, anaemia, hepatomegaly, splenomegaly, ascitis, generalized edema(anasarca) etc.It purifies the blood therefore useful in skin diseases, herpes, Internal hotness, gout, menstrual irregularity, pain during menses(dysmenorrhoea), eye diseases etc 
3/31/2012 9:04:00 PM
मधुमेह : सुरक्षा व उपाय
मधुमेह : सुरक्षा व उपाय
 मधुमेह : सुरक्षा व उपाय

 मधुमेह : सुरक्षा व उपाय

वर्तमान में भारत देश में ढाई करोड़ से अधिक लोग मधुमेह से ग्रस्त हैं । 'विश्व स्वास्थ्य संगठन' के अनुसार आगामी 20 वर्षों में यह संख्या दुगनी हो जायेगी । मधुमेह का इतनी तेज गति से बढ़ने का कारण आधुनिक खान-पान, शारीरिक परिश्रम का अभाव, मानसिक तनाव व चिंता है ।
मधुमेह में शरीर की सप्तधातुएँ, तीनों दोष व ओज विकृत हो जाते हैं, जिससे शरीर निस्सार व दुर्बल होने लगता है । शरीर में सूक्ष्म मल (क्लेद) का  संचय  होने  लगता  है ।  परिणामतः  गुर्दे (किडनी), हृदय, हड्डी व नेत्र से संबंधित रोग एवं अन्य अनेक जटिल उपद्रव उत्पन्न होने की संभावनाएँ बढ़ जाती हैं ।
कारण : सुखपूर्वक बैठे रहना व सोना, दही, दूध व दूध से बनी चीजें, गुड़ व चीनीयुक्त पदार्थों का अति सेवन, मांसाहार, नवीन धान्य, नवीन जल (वर्षा का जल), सभी कफवर्धक पदार्थ व आनुवंशिकता से मधुमेह उत्पन्न होता है ।
सुरक्षात्मक उपाय : औषधि-सेवन से भी पथ्य-पालन व व्यायाम विशेष महत्त्वपूर्ण हैं । सूर्योदय से पूर्व 4-5 कि.मी. तेजी से चलना मधुमेह-पीड़ितों के लिए सर्वोत्कृष्ट व्यायाम है । दिन भर भी चलना-फिरना चाहिए । आसन, विशेषतः सूर्यनमस्कार, भुजंगासन, शलभासन, धनुरासन व सर्वांगासन तथा प्राणायाम नियमित करें । भोजन निश्चित समय पर लें । दिन में सोने से शर्करा बढ़ती है, अतः दिन का शयन त्याग दें ।
पथ्य-अपथ्य : दही, भैंस का दूध, फल, मिठाई, नये चावल आदि कफवर्धक पदार्थों का सेवन न करें । जौ, गेहूँ, पुराने चावल, मूँग, चना, कुलथी, अलसी का तेल, गाय का घी, मेथी, बथुआ,  तुरई,  लौकी,  कम  मात्रा  में  अंगूर, किशमिश, बादाम ले सकते हैं । एक बादाम रात को भिगोकर सुबह छिलका उतारकर खूब चबाके खाना मधुमेह-पीड़ितों के लिए हितकारी है । बिल्वपत्र, नीमपत्र, आँवला, हल्दी, करेला, जामुन व मेथीदाना विशेष लाभदायी हैं ।
औषध-चिकित्सा :
1. त्रिफला चूर्ण का नियमित सेवन करें ।
2. आँवले के रस में हल्दी व शुद्ध शहद मिलाकर लें अथवा 1 ग्राम हल्दी व 2 ग्राम  आँवला चूर्ण मिलाकर लें ।
3. सुबह 10 से 20 मि.ली. बिल्वपत्र का रस व उतना ही करेले का रस लेना बहुत गुणकारी है ।
4. मेथीदाना रात भर भिगोके सुबह छाया में सुखाकर पीसके रखें । 1-1 चम्मच सुबह-शाम लें ।
5. औषधि-कल्पों में वसंतकुसुमाकर रस, रजतमालिनी वसंत, चंद्रप्रभा वटी, आरोग्यवर्धिनी वटी बल व ओजवर्धनार्थ बहुत उपयोगी हैं ।
6. जामुन में स्थित जम्बोलिन नामक ग्लुकोज स्टार्च के शर्करा में होनेवाले विकृत रूपांतरण को रोकता है । छाया में सुखायी गयी जामुन की गुठलियों का चूर्ण छः-छः ग्राम दिन में दो-तीन बार लेना मधुमेह में लाभदायी है ।
चमत्कारी प्रयोग : सुबह आधा किलो करेले काटकर एक चौड़े बर्तन में रखके उन्हें पैरों से कुचलें । जब करेलों का कड़वापन मुँह में आ जाय (जीभ में कड़वाहट का एहसास हो) तब कुचलना छोड़ दें । यह प्रयोग दस दिन तक करें । इससे मधुमेह नियंत्रित हो जायेगा । आवश्यक हो तो यह प्रयोग दस दिन बाद पुनः दोहरा सकते हैं ।  
योगमुद्रासन
योगाभ्यास में यह मुद्रा अति महत्त्वपूर्ण है इसलिए इसका नाम 'योगमुद्रासन' रखा गया है ।
लाभ : इस आसन के अभ्यास से -
1. जठराग्नि प्रदीप्त होती है । गैस, अपचन, पुराना कब्ज आदि पेट की बीमारियाँ दूर होती हैं ।
2. बढ़ा हुआ पेट अंदर दब जाता है । शरीर सुडौल तथा मजबूत बनता है ।
3. आँतों की सभी शिकायतें दूर होती हैं । हृदय मजबूत बनता है ।
4. रक्त के विकार दूर होते हैं । कुष्ठ और यौन-विकार नष्ट होते हैं ।
5. मानसिक तथा बौध्दिक शक्ति बढ़ती है ।
6. नाड़ीतंत्र और खास करके कमर के नाड़ी-मण्डल को बल मिलता है ।
7. पेन्क्रियाज (अग्न्याशय) क्रियाशील होकर मधुमेह को नियंत्रित करता है । डायबिटीजवालों के लिए यह आसन हितकारी है ।
8. रीढ़ की हड्डी की समस्त कशेरुकाएँ एक-दूसरे से अलग होकर सुषुम्ना नाड़ी को साफ और  हलका  करती  हैं,  जिससे  मस्तिष्क  की क्रियाओं में विशेष स्फूर्ति आती है ।
9. मणिपुर चक्र जागृत होता है, जो कि प्रत्येक व्यक्ति के अंदर छिपी हुई शक्ति का एक प्रमुख केन्द्र है ।
विशेष : धातु की दुर्बलता में योगमुद्रासन खूब लाभदायक है ।


विधि : पद्मासन में बैठकर आँखें बंद करें । दोनों हाथों को पीठ के पीछे ले जायें । बायें हाथ से दाहिने हाथ की कलाई पकड़ें । दोनों हाथों को खींचकर कमर तथा रीढ़ के मिलन-स्थान पर रखें । श्वास को धीरे-धीरे छोड़ते हुए ललाट को जमीन से  लगायें ।  कुछ  समय  इस  स्थिति  में  रुककर आराम करें और श्वास साधारण रूप से चलने दें ।
फिर धीरे-धीरे गहरा श्वास लेते हुए सिर को उठाकर शरीर को पुनः सीधा कर दें और श्वास सामान्य चलने दें । इसे 4-5 बार दोहरायें । प्रारंभ में  यह  आसन  कठिन  लगे  तो  सुखासन  या सिध्दासन में बैठकर करें । पूर्ण लाभ तो पद्मासन में बैठकर करने से ही होता है । सामान्यतया यह आसन 3 मिनट तक करना चाहिए । आध्यात्मिक उद्देश्य से योगमुद्रासन करते हों तो समय की अवधि रुचि और शक्ति के अनुसार बढ़ायें ।  

 
 

 

 
 

View Details: 3965
print
rating
  Comments

wPWiumhZO
Created by Danail in 7/7/2013 2:38:16 PM
Yes, we should <a href="http://fkuljue.com">deeiintfly</a> have new guidelines, especially ones based on the new science since '85. I don't think we should lower the standards to match the condition of the overweight kids though. Unfortunately we should be more worried about whether there will even be P.E. in a few years, much less recess.
4dw4o9uvat
Created by Lawgate in 7/5/2013 7:17:57 PM
Brilliant, cheers.Not <a href="http://lcoqiwat.com">renosciging</a> many of the tracks here, although the appearance of 'Disintergrate' is a very good one... Makes me even more excited.Wow, that RQ sure is one artistically talented guy isn't he?
New Comment
Created by Youngy in 5/3/2013 3:33:30 PM
This does look promising. I'll keep cmonig back for more.
New Comment
Created by bhanu pratap in 4/9/2013 3:10:22 PM
New Comment

 

Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji