Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.

 

 

Sharad Poornima Videos
Minimize
कैसे पायें शरद पूर्णिमा (29th Oct 2012) के पर्व पर दमा से सर्वदा के लिए छुटकारा (मन्त्र)
Tips To increase eye-sight on Sharad poornima 29th Oct 2012
शरद पूर्णिमा कैसे मनाएं(How to celebrate sharad poornima)
Anandswaroop Chidghan Ka Raspaan {आनंद स्वरुप चिद्घन का रसपान }
Banshi Naad Dhyan (बंशी नाद ध्यान )
 
 
Added: 6 days ago, in category: Dhyan
From: Ashram.org
Comments: 43 / Views: 2596
Sharad Poornima aur Khir Prayog (शरद पूर्णिमा और खीर प्रयोग )
 
 
Added: 1 weeks ago, in category: Health & Nature
From: Amritvani
Comments: 8 / Views: 1368
हो जाने दो दिलों में रास लीला (Ho Jane de Dilon Me Raas Leela)
 
 
Added: 1 years ago, in category: Darshan Pujya Bapuji
From: Amritvani
Comments: 2 / Views: 1104
Sharad Poonam Jagran Satsang 3rd Oct '09 [10 pm IST]
 
 
Added: 2 years ago, in category: Live Broadcast Satsang
From: Ashram.org
Comments: 53 / Views: 4669
Sharad Poornima Darshan -2
 
 
Added: 2 years ago, in category: Darshan Pujya Bapuji
From: Amritvani
Comments: 3 / Views: 754
Sharad Poornima Darshan-1
 
 
Added: 2 years ago, in category: Darshan Pujya Bapuji
From: Amritvani
Comments: 6 / Views: 895
Sharad Poonam Dhyan 2/3
 
 
Added: 2 years ago, in category: Dhyan
From: Amritvani
Comments: 13 / Views: 2361
sharad poornima dhyan -3/3
 
 
Added: 2 years ago, in category: Dhyan
From: Amritvani
Comments: 1 / Views: 687
Sharad poornima dhyan -1/3
 
 
Added: 2 years ago, in category: Dhyan
From: Ashram.org
Comments: 3 / Views: 1305
 
   

 

 

 

Like Us on Facebook
Minimize
Like Us To Get Updates on Latest Satsang Added
 
Audios
Minimize

Asli-Prit-1:
Download

Asli-Prit-2:
Download

Flute-Dhyan-1.mp3:
Download

Flute-Dhyan-2.mp3:
Download

Jogire-flute.mp3:
Download

Sahaj Dhyan Part 1.mp3:
Download

Sahaj Dhyan Part 2.mp3:
Download

Bansinaad Dhyan Part 1.mp3:
Download

Bansinaad Dhyan Part 2.mp3:

Download 

 

 

 
Read Detail Articles
Minimize
अमृतवर्षा की रात्रि : शरद पूर्णिमा

अमृतवर्षा की रात्रि : शरद पूर्णिमा

कामदेव ने भगवान श्रीकृष्ण से कहा कि "हे वासुदेव ! मैं बड़े-बड़े ऋषियों, मुनियों तपस्वियों और ब्रह्मचारियों को हरा चुका हूँ। मैंने ब्रह्माजी को भी आकर्षित कर दिया। शिवजी की भी समाधि विक्षिप्त कर दी। भगवान नारायण ! अब आपकी बारी है। आपके साथ भी मुझे खिलवाड़ करना है तो हो जाय दो-दो हाथ ?"
भगवान श्रीकृष्ण ने कहाः "अच्छा बेटे ! मुझ पर तू अपनी शक्ति का जोर देखना चाहता है ! मेरे साथ युद्ध करना चाहता है !तो बता, मेरे साथ तू एकांत में आयेगा कि मैदान में आयेगा ?"
एकांत में काम की दाल नहीं गली तो भगवान ने कहाः "कोई बात नहीं। अब बता, तुझे किले में युद्ध करना है कि मैदान में? अर्थात् मैं अपनी घर-गृहस्थी में रहूँ, तब तुझे युद्ध करना है कि जब मैं मैदान में होऊँ तब युद्ध करना है ?"
बोलेः महाराज ! जब युद्ध होता है तो मैदान में होता है। किले में क्या करना !
भगवान बोलेः "ठीक है, मैं तुझे मैदान दूँगा। जब चन्द्रमा पूर्ण कलाओं से विकसित हो, शरद पूनम की रात हो, तब तुझे मौका मिलेगा। मैं ललनाएँ बुला लूँगा।"
शरद पूनम की रात आयी और श्रीकृष्ण ने बजायी बंसी। बंसी में श्रीकृष्ण ने 'क्लीं' बीजमंत्र फूँका। क्लीं बीजमंत्र फूँकने की कला तो भगवान श्रीकृष्ण ही जानते हैं। यह बीजमंत्र बड़ा प्रभावशाली होता है।
श्रीकृष्ण हैं तो सबके सार और अधिष्ठान लेकिन जब कुछ करना होता है न, तो राधा जी का सहारा ढूँढते हैं। राधा भगवान की आह्लादिनी शक्ति माया है।
भगवान बोलेः "राधे देवी ! तू आगे-आगे चल। कहीं तुझे ऐसा न लगे कि ये गोपिकाओं में उलझ गये, फँस गये। राधे ! तुम भी साथ में रहो। अब युद्ध करना है। काम बेटे को जरा अपनी विजय का अभिमान हो गया है। तो आज उसके साथ दो दो हाथ होने हैं। चल राधे तू भी।"
भगवान श्रीकृष्ण ने बंसी बजायी, क्लीं बीजमंत्र फूँका। 32 राग, 64 रागिनियाँ... शरद पूनम की रात... मंद-मंद पवन बह रहा है। राधा रानी के साथ हजारों सुंदरियों के बीच भगवान बंसी बजा रहे हैं। कामदेव ने अपने सारे दाँव आजमा लिये। सब विफल हो गया।
भगवान श्रीकृष्ण ने कहाः
"काम ! आखिर तो तू मेरा बेटा ही है !"
वही काम भगवान श्रीकृष्ण का बेटा प्रद्युम्न होकर आया।
कालों के काल, अधिष्ठानों के अधिष्ठान तथा काम-क्रोध, लोभ मोह सबको सत्ता-स्फूर्ति दने वाले और सबसे न्यारे रहने वाले भगवान श्रीकृष्ण को जो अपनी जितनी विशाल समझ और विशाल दृष्टि से देखता है, उतनी ही उसके जीवन में रस पैदा होता है।
मनुष्य को चाहिए कि वह अपने जीवन के विध्वंसकारी, विकारी हिस्से को शांति, सर्जन और सत्कर्म में बदल के, सत्यस्वरूप का ध्यान् और ज्ञान पाकर परम पद पाने के रास्ते सजग होकर लग जाये तो उसके जीवन में भी भगवान श्रीकृष्ण की नाईं रासलीला होने लगेगी। रासलीला किसको कहते हैं ? नर्तक तो एक हो और नाचने वाली अनेक हों, उसे रासलीला कहते हैं। नर्तक एक परमात्मा है और नाचने वाली वृत्तियाँ बहुत हैं। आपके जीवन में भी रासलीला आ जाय लेकिन श्रीकृष्ण की नाईं नर्तक अपने स्वरूप में, अपनी महिमा में रहे और नाचने वाली नाचते-नाचते नर्तक में खो जायें और नर्तक को खोजने लग जायें और नर्तक उन्हीं के बीच में, उन्हीं के वेश में छुप जाय-यह बड़ा आध्यात्मिक रहस्य है।
ऐसा नहीं है कि दो हाथ-पैरवाले किसी बालक का नाम कृष्ण है। यहाँ कृष्ण अर्थात् कर्षति आकर्षति इति कृष्णः। जो कर्षित कर दे, आकर्षित कर दे, आह्लादित कर दे, उस परमेश्वर ब्रह्म का नाम 'कृष्ण' है। ऐसा नहीं सोचना कि कोई दो हाथ-पैरवाला नंदबाबा का लाला आयेगा और बंसी बजायेगा तब हमारा कल्याण होगा, ऐसा नहीं है। उसकी तो नित्य बंसी बजती रहती है और नित्य गोपिकाएँ विचरण करती रहती हैं। वही कृष्ण आत्मा है, वृत्तियाँ गोपिकाएँ हैं। वही कृष्ण आत्मा है और जो सुरता है वह राधा है। 'राधा'..... उलटा दो तो 'धारा'। उसको संवित्, फुरना और चित्तकला भी बोलते हैं।
काम आता है तो आप काममय हो जाते हो, क्रोध आता है तो क्रोधमय हो जाते हो, चिंता आती है तो चिंतामय हो जाते हो, खिन्नता आती है तो खिन्नतामय हो जाते हो। नहीं,नहीं। आप चित्त को भगवदमय बनाने में कुशल हो जाइये। जब भी चिंता आये तुरंत भगवदमय। जब भी काम, क्रोध आये तुरंत भगवदमय। यही तो पुरुषार्थ है। पानी का रंग कैसा ? जैसा मिलाओ वैसा। चित्त जिसका चिंतन करता है, जैसा चिंतन करता है, चिदघन चैतन्य की वह लीला वैसा ही प्रतीत कराती है। दुश्मन की दुआ से डर लगता है और सज्जन की गालियाँ भी मीठी लगती हैं। चित्त का ही तो खेल है ! भगवदभाव से प्रतिकूलताएँ भी दुःख नहीं देतीं और विकारी दृष्टि से अनुकूलता भी तबाह कर देती है। विकारी दृष्टि विकार और विषाद में गिरा देती है। 

View Details: 3170

 

print
rating
  Comments

Jai ho
Created by Bahadur prajapati in 10/26/2012 11:37:51 PM
Jai ho guruji ke gyan ki jai ho sadguru bhagwan ki..
sharad poornima ki shubh kamnaye
Created by Anonymous in 10/11/2011 8:07:30 AM
hari om
Satsang
Created by Raman Dev in 10/11/2011 3:00:17 AM
New Comment
happy sharad poornima
Created by sagar ranmale in 10/10/2011 9:28:40 AM
hari om
gurudev tumahari jai ho


Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji