Sant Shri
  Asharamji Ashram

     Official Website
 

Register

 

Login

Follow Us At      
40+ Years, Over 425 Ashrams, more than 1400 Samitis and 17000+ Balsanskars, 50+ Gurukuls. Millions of Sadhaks and Followers.

 

Diwali Bhandara Images
/Portals/9/UltraPhotoGallery/6156/1331/thumbs/15526.DSC_0281.JPG
DSC_0281
10/26/2011 12:14:00 PM
DSC_0382
10/26/2011 5:23:00 PM
DSC_0381
10/26/2011 5:23:00 PM
DSC_0196
10/26/2011 12:04:00 PM
DSC_0380
10/26/2011 5:22:00 PM
DSC_0379
10/26/2011 5:22:00 PM
DSC_0378
10/26/2011 5:22:00 PM
DSC_0377
10/26/2011 5:22:00 PM
DSC_0372
10/26/2011 5:21:00 PM
DSC_0346
10/26/2011 4:43:00 PM
DSC_0265
10/26/2011 12:13:00 PM
DSC_0258
10/26/2011 12:12:00 PM
DSC_0255
10/26/2011 12:12:00 PM
DSC_0249
10/26/2011 12:12:00 PM
DSC_0231
10/26/2011 12:10:00 PM
DSC_0202
10/26/2011 12:05:00 PM
DSC_0151
10/26/2011 11:54:00 AM
DSC_0148
10/26/2011 11:54:00 AM
DSC_0141
10/26/2011 11:53:00 AM
DSC_0005
10/26/2011 10:50:00 AM
DSC_0139
10/26/2011 11:51:00 AM
DSC_0138
10/26/2011 11:50:00 AM
DSC_0137
10/26/2011 11:50:00 AM
DSC_0131
10/26/2011 11:48:00 AM
DSC_0111
10/26/2011 11:46:00 AM
DSC_0100
10/26/2011 11:45:00 AM
DSC_0024
10/26/2011 11:00:00 AM
DSC_0083
10/26/2011 11:43:00 AM
DSC_0080
10/26/2011 11:42:00 AM
DSC_0070
10/26/2011 11:41:00 AM
DSC_0063
10/26/2011 11:40:00 AM
DSC_0051
10/26/2011 11:34:00 AM
DSC_0050
10/26/2011 11:33:00 AM
DSC_0047
10/26/2011 11:30:00 AM
DSC_0046
10/26/2011 11:30:00 AM
DSC_0045
10/26/2011 11:29:00 AM
DSC_0043
10/26/2011 11:28:00 AM
DSC_0026
10/26/2011 11:00:00 AM
DSC_0023
10/26/2011 11:00:00 AM
DSC_0006
10/26/2011 10:50:00 AM
DSC_0004
10/26/2011 10:50:00 AM
DSC_0044
10/26/2011 11:28:00 AM
DSC_0087
10/26/2011 11:43:00 AM
DSC_0058
10/26/2011 11:40:00 AM
Share Pictures

 Email the pictures or videos of the bhandaras and other service activities organized by your samiti or ashram at events@ashram.org

Bhandara Video

Article List
दिवाली भंडारा सेवाकार्य

  दमोह  ( म.प्रदेश )   यहाँ   पूज्यश्री   का   सत्संग   का   आयोजन   किया   था  |  बापूजी   के   आदेशानुसार   वहाँ   के ...
Read More..


प्रश्नोत्तरी

  आप   लोग   ये   जो   सेवा   कर   रहे   हैं   उसका   उद्देश्य   क्या   है ..  
Read More..


पूजन एवं हवन विधि

  आचमन: निम्न मंत्र पढ़ते हुए तीन बार आचमन करें |  ‘ॐ केशवाय नम:, ॐ नारायणाय नम:, ॐ माधवाय नम: | फिर यह मंत्र बोलते हुए हाथ धो लें | ॐ हृषीक...
Read More..


पूज्यश्री का संदेश

  "यह  (चारित्रिक)  आरोप बेबुनियाद हैं, साजिश  है | मेरी सच्चाई मेरे साथ है | भारतीय संस्कृति  के खिलाफ बड़ा गहरा षड्यंत्र चल रहा हैं | अत: भारत के...
Read More..


सुप्रचार कैसे करें ?

  पूज्य बापूजी कि दीपावली पर पावन संदेश "सभी साधक पहले जैसे दीपावली मनाते थे, अभी भी वैसे ही मनाये | जो आत्मा अंदर है, वही आत्मा बाहर भी है | मैं ...
Read More..


Read Article
सुप्रचार कैसे करें ?

सुप्रचार कैसे करें ?


पूज्य बापूजी कि दीपावली पर पावन संदेश "सभी साधक पहले जैसे दीपावली मनाते थे, अभी भी वैसे ही मनाये | जो आत्मा अंदर है, वही आत्मा बाहर भी है | मैं सभी साधकों को उनके घर में ही दर्शन दूँगा |" - पूज्य बापूजी 
आत्मीय श्री 
सप्रेम सदगुरु स्मरण !
इस वर्ष कि दिवाली का पर्व प्रार्थना, जप, हवन, गरीब बच्चों में भंडारा आदि सत्कर्म के साथ मनायें | ध्यान -भजन व सेवा पहले शुभ संकल्प करें कि पूज्यश्री का स्वास्थ्य अच्छा hओ, चिरंजीवी हों और अतिशीघ्र कारावास से निर्दोष, निष्कलंक बाहर आयें | इस पावन पर्व के उपलक्ष्य में आपके समक्ष कुछ विचार प्रस्तुत हैं -

सेवा - साधना बैठक : 
(क) साधकों का मनोबल, गुरुभक्ति बढे व उनमें सुप्रचार के प्रबल पुरुषार्थ कि भावना विकसित हो |
(ख) विभिन्न प्रचार सामग्रियों द्वारा सच्चाई लोगों तक पहुँचाने की सुनियोजित कार्यप्रणाली बनायें |
इस हेतु सप्ताह में १ - २ बार (भाई - बहनें अलग-अलग ) सेवा साधना बैठक का आयोजन करें |
भगवान् शिवजी कहते हैं :
गुरु:  शिवो गुरुर्देवो गुरुर्बन्धु : शरीरिणाम् | गुरुरात्मा गुरुर्जीवो गुरोरन्यन्न विद्यते || 
मनुष्यों के लिए गुरु ही शिव है, गुरु ही देव है, गुरु ही बांधव है, गुरु ही आत्मा है और गुरु ही जीव है ! (सचमुच) गुरु के सिवा अन्य कुछ भी नहीं है | - गुरुगीता (श्लोक क्र. ८५ )

 ब्रम्ह्ज्ञानी  सदगुरु  केवल अपनी पावन देह तक ही सीमित नहीं होते हैं | आत्मसाक्षात्कारी महापुरुष तो सर्व्यापक हैं | कण - कण में, सभी के ह्रदय में विराजमान हैं | पूज्यश्री भले ही शरीर से हमसे दूर जेल में हैं परन्तु वे सूक्ष्म रूप में हमारे साथ ही है | उनकी सर्वव्यापनी शक्ति हमारे साथ हैं | सर्वव्यापक पूज्य सदगुरुदेव की पावन उपस्थिति की अनुभूति करते हुए हम सब यह संकल्प करें की ऐसी विकट परिस्थिति में भी हम एकजुट होकर उनके देवकार्यों को और बढ़-चढ़कर आगे बढ़ायें | पूज्य गुरुदेव के दिव्य संदेश को, सच्चाई को जन-जन तक पहुंचायें |
(ग) साधना -बैठक की कार्यप्रणाली व तुरंत शुरू करनेवाली सेवा-प्रवृत्तियाँ :
१. बाल संस्कार केंद्र : चलाये जा रहे 'बाल संस्कार केंद्र ' सुचाररूप से चलते रहें | (बच्चों की संख्या कम हो तो चिंता न करें, दृढ़तापूर्वक सेवा चालू रखें | ) नये केन्द्रों का शुभारंभ भी करते रहें | पूज्यश्री सत्संग में इस सेवा को घर-घर में शुरू करने हेतु विशेषरूप से प्रेरित करते रहे है |
२. बाल मंडल / कन्या मंडल / छात्र मंडल का गठन : साधकों के बच्चों को इन मंडलों में विशेष प्राथमिकता दें | मंडल की सदस्यता का फॉर्म बच्चों से भरवा क्र उनका मंत्री मंडल भी बनायें |
३. दिवाली के निमित्त बाल भंडारा (दिनांक : १ या २ नवम्बर को )
जब लोग दिवाली पर अपने परिवारजनों के बीच हर्षोल्लास के साथ आनंद ले रहे होते हैं, तब पूज्य बापूजी हर वर्ष संसार की सुख-सुविधा और शोर-शराबे से दूर आदिवासियों को कम्बल, दवाइयाँ, अन्न, वस्त्र, टिफिन, तेल, मिठाइयाँ आदि जीवनोपयोगी वस्तुएँ बांटते रहे हैं |

इस दिवाली पर हम अपने - अपने क्षेत्रों में गरीब बच्चों को एकत्रित करके अथवा उनके यहाँ जाकर भंडारा, मिठाई आदि वितरण करें | (बाल मंडलों के बच्चों द्वारा वितरण करवायें )
४.   ७ दिवस जपयज्ञ, अनुष्ठान व हवन (दिनांक : ३ से ९ नवम्बर तक ) :
* जपयज्ञ : पूज्यश्री के उत्तम स्वास्थ्य हेतु बच्चे व बड़े सभी साधक मिलकर सबा लाख महामृत्युंजय मंत्र का सामूहिक से जप करें | 
मंत्र : ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगंधिम पुष्टिवर्धनम | उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योंमुर्क्षिय मामृतात |
(समय सुबह ७ से १० बजे तक या अपने समयानुकूल )
*हवन : हमारे गुरुआश्रम व गुरुपरिवार के खिलाफ षड्यंत्र करनेवाले साजिशकर्ता विफल हों, उनका पर्दाफाश हो, सच्चाई समाज के सामने आये और हमारे पूज्य बापूजी अतिशीघ्र कारावास से 
निर्दोष बाहर आयें यह शुभ संकल्प बार-बार दोहराते व आर्त्तभाव से प्रार्थना करते हुए 'ॐ ह्रीं ॐ '  मंत्र का हवन करें |
नोट : (१) महामृत्युंजय मंत्र का सवा लाख जप सबको मिलकर करना है | प्रति दिन २०० माला करनी है | मालाओं की संख्या आपस में बाँट लें | हवन व जप की विधि साथ में है |
(२) ध्यान रहे यह प्रवृति भाई व बहनें अलग-अलग आयोजित करेंगे |
५. बाल दिवस (१४ नवम्बर ) पर समर्थन यात्रा :  'बापूजी के बच्चे नहीं रहते कच्चे' कन्या मंडल व छात्र मंडल के बच्चों द्वारा यह यात्रा निकले और बच्चों द्वारा कलेक्टर को ज्ञापन दिया जाये |
बच्चों की यात्रा कतारबद्ध हो व पहले से नाम-सूचि बनी रहें (बच्चे साधक के हों तो बेहत्तर रहेगा ) |
नोट :  यात्रा के बैनर, तख्तियाँ आदि का डिजाईन आपको मेल किया जायेगा | भंडारा, जप, हवन व समर्थन यात्रा के फोटो, वीडियो क्लिप व प्रेस कटिंग्स आदि ई-मेल अवश्य करें |

६. मठ-मंदिरों, आश्रमों में प्रचार सामग्री पहुचायें :  संतों, महंतों व कथाकारों से मिलें, उनका वीडियो लें (कैमरें से शूटिंग करें, मोबइल से नहीं ) अहमदाबाद मेल करें | 
 ई-मेल :  bskamd@gmail.com 
७. विशिष्ट वर्ग तक सच्चाई पहुँचायें : जज, वकील, डॉक्टर, शिक्षक, सरकारी अफसर व समाज के विशिष्ट लोगों तक नयी 'सच' नाम की ४ कलर पत्रिका व वीसीडी पहुँचायें |
८.  विद्यालयों में प्रचार-प्रसार :  विद्यालयों (विशेषकर जहाँ हर वर्ष 'दिव्य प्रेरणा -प्रकाश ज्ञान प्रतियोगिता होती है ) के प्राचार्य व ट्रस्टी तक 'सच' मैगजीन व सीडी पहुँचायें | शिक्षकों तक भी 
प्रचार-सामग्री (सच्चाई पुस्तक, न्यूजपोस्ट आदि) पहुँचायें |
९. जिला स्तरीय 'ज्योत से ज्योत जगाओ ' साधक सम्मेलन का आयोजन :  इस सम्मेलन के ५ पहलू  रहेंगे |
    (१) साधकों की गुरुभक्ति बढे ऐसी प्रेरणादायी चर्चा व वीडियों सत्संग |
    (२) सभी आरोपों का खंडन (वीसीडी द्वारा दिखायें )
    (३) सुप्रचार सामग्री की जानकारी, प्रचार-सामग्री का वितरण कैसे करें व सुप्रचार कैसे बढ़ायें |
    (४) 'बाल संस्कार केंद्र' की प्रवृत्तियों पर  प्रकाश डालें व सभी साधक अपनी-अपनी सेवा को जारी रखने का संकल्प करें |
    (५) संत व गणमान्य प्रतिष्टित व्यक्तियों को आमंत्रित कर मंच पर बापूजी के समर्थन में उदबोधन करवायें |
नोट : (१) सम्मेलन के शिक्षक 'बाल संस्कार विभाग' (अहमदाबाद ) द्वारा निश्चित किये जायेंगे |
(२) 'सम्मेलन आयोजन मंडल' बनाकर सम्मेलन के दिनांक की सूचना कम-से-कम एक सप्ताह पहले ई-मेल या फैक्स द्वारा भेजे |
१०. प्रिंट व इलेट्रॉनिक मिडिया में उपरोक्त गतिविधियों का प्रसारण :  लोकल टीवी चॅनेल, सिटी केबल आदि को आयोजन के कवरेज हेतु आमंत्रित करें अथवा वीडियो क्लिपिंग्स पहुँचायें |
स्थानीय पत्रों में छपवाने हेतु आरोपों के खंडन की प्रेस नोट आपको अहमदाबाद से भेजी जायेगी |

सुप्रचार सामग्री सूची
(१) सच्चाई :  as it is (छोटी पुस्तक ): जन-जन तक वितरण हेतु |
(२) सच - जो आप तक पहुँच न सका (४ कलर बड़ी मैगजीन ) : संत, नेता, जज,वकील, डॉक्टर, सरकारी अफसर, विद्यालयों-महाविद्यालयों के ट्रस्टी व प्राचार्यों तथा अन्य प्रतिष्टित व्यक्तियों
को देने हेतु |
(३) जागो हिंदुस्तानी वीसीडी : सभी तक पहुँचायें विशेषकर उपरोक्त श्रेणी के लोगों को |
(४) न्यूजपोस्ट साप्ताहिक अख़बार :  नए आरोपों के खंडन सहित वर्त्तमान समाचार |
(५) स्टीकर :  बड़े, मीडियम व छोटे प्रकार के साइज में उपलब्ध हैं |
नोट : सामग्री का आर्डर 'बाल संस्कार विभाग' को दें |
 

 


 


View Details: 1374
print
Copyright © Shri Yoga Vedanta Ashram. All rights reserved. The Official website of Param Pujya Bapuji